Pyar Bhari Shayari

Top Pyar Bhari Shayari In Hindi.

Buddy Talk APP

इस मोहब्बत का जाना खूबसूरत सा अंजाम हो जाए, तुम्हारी बाहों में गुज़रे ऐसी हसीन शाम हो जाए, तुम को अच्छा लगता है भीग जाना बारिश में देखो ना, तुम्हारे लिए बादल चुरा के लाया हूँ, था नही कुछ मेरा अपना, मैं तुम्हारे नाम करूँ.

शिकवे भी हज़ारों है शिकायत भी बहुत है, इस दिल को मगर उससे मोहब्बत भी बहुत है. आ जाता है मिलने वो तसवउर में हमारे, एक शख्स की इतनी सी इनायत भी बहुत है, यह भी है तमन्ना के उसे दिल से भुला दें, इस दिल को मगर उसकी ज़रूरत भी बहुत है. देखें तो ज़रा पी के हूँ ज़हर-ए-मोहब्बत, सुनते हैं के इस ज़हर में लज़्ज़त भी बहुत है.

खूबसूरत सा एक पल किस्सा बनजता है, जाने कब कौन ज़िंदगी का हिस्सा बनजता है, कुच्छ लोग ज़िंदगी में मिलते है ऐसे जिनसे कभी ना टूतनेवाला रिश्ता बनजता है.

नसीबा दे लेख कोई मोड़ नई सकदा, होवे रब्ब ते ऐतबार कोई तोड़ नई सकदा, सच्चे प्यार ता मिल्दे ने नसीब नाल, लाख चाह के वी किसे नाल रिश्ता कोई जोड़ नई सकदा.

जितना तुमने ख्वाबो में सताया, उतना तंग किसी ने किया ना था, है मजबूरियाँ तुम्हारी है मजबूरिया हमारी, बस कहना है आज इतना तुमसे, कभी कम ना होगी दिल से मोहब्बत तुम्हारी.

खुशियो की आरज़ू मे मुक़द्दर सो गये, आँधी ऐसी चली की अपने भी खो गये, क्या खूब था उनका अंदाज़-ए-मोहब्बत, प्यार देने आए थे और पलके भिगो गये.

मोहब्बत मे सर को झुका देना कोई मुश्किल नही रोशन सूरज भी चाँद की खातिर डूब जाता है.

मैं कहता हूँ, मोहब्बत क्या है ये तुम ने सिखाया है, मुझे तुम से मोहब्बत के सिवा, कुछ भी नही आता.

महक अपने रिश्ते की फूलों से भी गहरी है, इसीलिए तो अपनी मोहब्बत साँसों पे ठहरी है, ना टूटे ये साँसों का रिश्ता जिंदगी से वरना समजेंगे दुनिया मे हर मोहब्बत अधूरी है..

मोहब्बत की है तुम्हारे लिए, इबादत की है तुम्हारे लिए, मौत भी आज़माए कभी हमे तो जान देने से भी मूह नही मोड़ेंगे तुम्हारे लिए.

महक अपने रिश्ते की फूलों से भी गहरी है, इसीलिए तो अपनी मोहब्बत साँसों पे ठहरी है, ना टूटे ये साँसों का रिश्ता, जिंदगी से वरना समज़ेंगे दुनिया मे हर मोहब्बत अधूरी है.

बारिश और मोहब्बत दोनो ही बोहत यादगार होते हैं, फ़र्क़ सिर्फ़ इतना है, बारिश मैं जिस्म भीग जाता है और मोहब्बत मैं आखे ..

कैसे करूँ मे बयान अपनी तनहाईयाँ, एक तेरे बिना ज़िने मे है परेशानिया , एक काश के तुम जान जाते मोहब्बत हमारी, ये मोहब्बत नही एक एक इबादित है तुम्हारी.

तुझसे मोहब्बत करने का कोई हिसाब ना था, हक़ीक़त का आईना था तू,कोई ख्वाब ना था.

जानेगी जब मेरी मोहोब्बत की इंतेहा ढुंदेगी वो मुझे दीवानो की तराह, कहते है लोग प्यार जिसे हमने वो किया इबादत की तराह.

मोहब्बत बस एक नशा है जो दिल और दिमाग़ पे छा जाता है, मोहब्बत कुछ नही, बस इसको पाना नामुमकिन है, जिसको मिल गयी ये मोहब्बत, वो दुनिया का सबसे खुशनसीब इंसान बन जाता है.