Mohabbat Shayari

Top Mohabbat Shayari In Hindi.

मोहब्बत पाने की तमन्ना मे कभी कभी ज़िंदगी खिलोना बनकर रह जाती हैं, जिन्हे हम अपने दिल मे बसाना चाहते है वही सूरत सिर्फ़ यादे बनकर रह जाती.

जान से भी ज़्यादा उनको मोहब्बत करते थे, याद उन्हे हर पल हर दिन करते थे. अब तो उन गलियो से गुज़र भी नही सकते, जहा बैठकर उनका इंतेज़ार किया करते थे.

मोहब्बत उसको मिलती हे जिनका नसीब होता हे, बहोत कम हातो मे ये मोहब्बत की लकीर होती हे. कभी कोई अपनी मोहब्बत से ना बिछड़े, कसम से ऐसे हालत मे बहोत तक़लीफ़ होती हे.

हर गली हर जगह दिया जलाना, हर बाग मे फूल खिलाना. इस दुनिया मे सब कुछ कर लेना, सिर्फ़ हम से मोहब्बत मत कर लेना.

रुलाना यहा सबको आता हे, हसाणा भी यहा सबको आता हे, रुला के कोई मनले वोही सक्चा दोस्त हे, और जो रुला के खुद भी रो पड़े वो सच्ची मोहब्बत हे.

ज़िन्दगी को तनहा वीराने में रहने दो, ये वफ़ा कि बाते खयालो में रहने दो, हकीकत में आज़माने से टूट जाते हे दिल, ये इश्क़ मोहब्बत किताबो में रहने दो.

मोहब्बत कि ज़ंज़ीर से डर लगता हे, कुछ अपनी तफलीक से डर लगता हे, जो मुझे तुजसे जुदा करते हे, हाथ कि वो लकीरो से डर लगता हे.

हम शिकायत किस्से करे दोनों तरफ दर्द का माहोल हे, हमारे आगे मोहब्बत हे और आपके आगे ज़माना हे.

रुक रुक के उनके साथ हमें एक चाहत सी हो गयी, बात करते करते हमें उनकी आदत सी हो गयी, उनसे मिल ने के लिए एक बैचनी सी रहती हे, न जाने दोस्ती निभाते निभाते हमें मोहब्बत सी हो गयी.

निगाहें मिल जाती हे तो इश्क़ हो जाता हे, पलखे उठे तो इज़हार हो जाता हे, ना जाने क्या नशा हे मोहब्बत में, के कोई अनजान भी ज़िन्दगी का हक़दार बन जाता हे.

अपने दिल को आखिर दुखाना हे, और बहारो में घर सजाना हे, तो मोहब्बत अक्सर बेवफा से करो, अगर ज़िन्दगी में मोहब्बत को आजमाना हे.

प्यार आ जाता हे इन आँखों में रोने से पहेले, हर ख्वाब टूट जाता हे सोने से पहेले, मोहब्बत एक गुनाह हे ये तो समज गए, काश कोई रोक लेता ये मोहब्बत होने से पहेले.

मोहब्बत मे जी गया कोई, मोहब्बत मे मार गया कोई, मोहब्बत आग का सागर हे फिर भी उतार गया कोई, मोहब्बत मे ज़ख़्म की कहानी बहोत पुरानी हे, ज़ख़्मी कर गया कोई, ज़ख़्म भर गया कोई.

इस दिल की ख्वाहिश को नाम क्या दू, मोहब्बत का उनको पैगाम क्या दू, इस दिल मे दर्द नही यादे हे उनकी, अगर यादे मूज़े दर्द दे तो इल्ज़ाम क्या दू.

तुम्हारी मोहब्बत से हमे कोई इनकार नही, कौन कहेता हे के हमे तुज़े मोहब्बत नही, तुमसे वादा हे साथ निभाने का, पर हमे अपनी सांसो पे ऐतबार नही.

कभी एक दिन बहारो के फूल मूर्ज़ा जाएँगे, ज़िंदगी मे कभी हम आपको याद आ जाएँगे, तब एहसास होगा आपको हमारी मोहब्बत का, जब यहा से बहोत दूर चले जाएँगे.