Ishq Shayari

Best Ishq Shayari In Hindi.

प्यार की अनदेखी सूरत हो तुम, जिंदगी की सबसे बड़ी ज़रूरत हो तुम, खुबसूरत तो गुलाब के फूल भी होते है, फुलो से भी खुबसूरत हो तुम.

दुनिया की भिड मे एक दुआ है हमारी, जीस मे मांगी हर खुशी तुम्हारी, जब भी आप मुस्कुरए अपने दिल से, समझो दुआ कबुल है हमारी.

किसी और की ख्वाबो मे रहकर वो हमसे वफ़ा की बाते करते हे, ये कैसी मोहब्बत हे मेरे दोस्तो, वो बेवफा हे ये जानकर भी, हम उन्ही से वफ़ा ए मोहब्बत करते हे.

क्यूँ ना गुरूर करता में अपने आप पे मुझे उस ने चाहा जिस के चाहने वाले हज़ारों थे !

इश्क़ का बीमार तो बड़ा खुशनसीब है यारो, की आशिक़ तो ये लाइलाज हे अच्छा है

तेरे बिना टूटकर बिखर जाएँगे, तुम मिल गये तो गुलशन की तरह खिल जाएँगे, तुम ना मिले तो जीते जी मार जाएँगे, तुम्हे पा लिया तो मारकर भी जी जाएँगे

मेरे खातिर दुनिया की महफिल नहीं वहाँ पे मैं नहीं, जहाँ पे दिल नहीं इश्क सच्चा हो तो वो तमाशा क्यूँ बने दर्द ऐसा नुमाइश के काबिल नहीं आज की रात तू मेरे पहलू में नहीं चाँद से आज कुछ भी हासिल नहीं

सारा गुनाह इश्क़ का, उसपे ही डाल दो मुज़रिम उसे बनाकर मुसीबत को ताल दो ये चमन जहाँ खिला एक फूल मुस्कुराता उसे तोड़कर रकीबों की तरफ उछाल दो .

इश्क़ पर ज़ोर नहीं, यह वो आतिश ग़ालिब; के लगाए ना लगे और बुझाए ना बुझे।

इश्क के रिश्ते कितने अजीब होते है? दूर रहकर भी कितने करीब होते है; मेरी बर्बादी का गम न करो; ये तो अपने अपने नसीब होते हैं!

इश्क की बेमिसाल मूरत हो आप, मेरी ज़िंदगी की एक ज़रूरत हो आप, फूल तो बहोत प्यारे होते ही हे, पर फूलो से भी बहोत खूबसूरत हो आप.

ना इश्क़ का इज़हार किया, ना ठुकरा सके हमें वो; हम तमाम ज़िंदगी मज़लूम रहे, उनके वादा मोहब्बत के।

इश्क़ की बंदगी दी है तो हुस्न की इबादत जरूरी है; इश्क़ से जीने की आस रहेगी और हुस्न से तड़प का सकून​।

इश्क़ मे उनके जान देके , हम भी दिखा देते मगर , तभी याद आया की, मोहब्बत तो आँधी होती है .

किताब-ए-इश्क़ में जीतने अल्फ़ाज़ लिखे हैं, दिल में मेरे उठने एहसास रखे हैं. तुम कह-कर देखते सितंगर, ज़ालिम मेरे लबों पर कितने तेरे नाम रखे हैं.

शिद्दत - ए - दिल का आलम तो देखिए, क्या दिखे सितारे ज़रा चाँद तो देखिए सुकून - ए - ज़िंदगी में ना मिला कभी, इश्क़ क्या करते ज़रा आशिक को देखिए रास्तो से सामना ना हुआ मसरूर क्या मिलते अपने ज़रा मुसाफिर को देखिए