Dard Bhari Shayari

Dard Bhari Shayari In Hindi.

You can show your sadness by sharing dard bhari shayari, read out some best dard bhari shayari in hindi or download the images and share it

दर्द का एहसास ना रहा गम था जो , कुच्छ ख़ास ना रहा हम भी किसी से मिलने को तड़प जाएँगे मालूम ना था. हम भी मुहब्बत कर जाएँगे मालूम ना था.

मोहब्बत का तो यही दस्तूर होता है, हर एक ज़ख़्म बंन कर नसूर होता है.. जो डूबते है इश्क़ मे उन्हे मिलता है सिर्फ़ दर्द. रोते है वो हर वक़्त,मगर रोने से ना दर्द दूर होता है.

निकलके उन्ही के दिल से हम महफ़िल मे आ बैठे हे, हमारी मुश्किल ये हे की बड़ी मुश्किल मे आ गये हे, लड़खड़ाने लगे हे पैर उनकी बेवफ़ाई की चोट से, पर लोग कहेते हे पी के सारी महफ़िल मे आ गये हे.

लोग मिला करते हे ज़िंदगी मे दिल को दर्द देने के लिए, वो भी आए थे दिल की कहानी सुनने के लिए, वो हवाओ की तरह रुख़ बदलते रहे, हम तक़दीर से लड़ते रहे जिनको पाने के लिए.

दिल को उसकी हसरत से खफ्फा कैसे करू, अपने रब को भूल जाने की ख़ाता कैसे करू, लहू बनकर राग राग मे बस गया है वो लहू को इस जिस्म से ज़ुदा कैसे करू.

बंधीशो में, उस तड़पति हुई आत्मा का क्या कसूर, दिल्लगी की एस दिल ने तो, एन आँसूऊ का क्या कसूर.

खुशियो से नाराज़ है मेरी ज़िंदगी, प्यार की मोहताज़ है मेरी ज़िंदगी, हंस लेता हू लोगो को दिखाने के लिए, वरना दर्द की किताब है मेरी ज़िंदगी.

देखा पलट के उस ने चाहत उसे भी थी, दुनिया से मेरी तरहा शिकायत उसे भी थी, वो रोए थे मुझे परेशान देख कर, उस दिन पता चला मेरी ज़रूरत उसे भी थी.

अब तेरे बिना अकेले रहने को जी करता है, खामोशी से दर्द पीने को जी करता है.

दिल की ख्वाइश को नाम क्या दू, प्यार का उसे पैगाम क्या दू, इस दिल मे दर्द नही उसकी यादे है, अब यादे ही दर्द दे तो उसे इल्ज़ाम क्या दू.

कहानी दर्द की हम ज़िंदगी से क्या कहते, ये दर्द उसने दिए हैं उसी से क्या कहते. 

अगर कभी दिल में उठे कसक दर्द देने की, मुझको हमारी छेद धुन वही पुरानी मुझको रुला देना काँटा हूँ मैं, साथ रहूँगा तो चुभता रहूँगा तन्हा रहूं मैं उम्र भर दिल से मुझको दुआ देना.

आएँगे वो ज़रूर ये सोचकर इंतज़ार करता हू मे, ना आए अगर वो तो ख़यालोमे ही मिल लेता हू मे, मुस्कुराए वो तो खुश होता हू मे, दर्द ज़रसा भी हो उसे तो रोता हू मे.

उसकी ये ज़िद के वो मुझे मार डाले दर्द देकर और मेरी ये ज़िद है के मैं उसपे मरता चला गया

सब कुछ अपना लूटा ते रहे तेरी चाहत में, ज़िंदा हैं तुझ पे ये दिल लुटाने के बाद भी. समंदर ए तन्हाई में डूबा ही रह गया मैं, प्यार में तुम से दिल लगाने के बाद भी.

गीली आँखों से उनके मैं थोड़ा पानी लाया हूँ, धड़कते दिल से उनके साँसों की रवानी लाया हूँ, और लाया हूँ कुछ एहसास उन आँखों से चुरा के सुनाने, महफ़िल में मोहब्बत की कहानी लाया हूँ.

तुमको छुपा रखा है इन पलको मैं, पर इन को यह बताना नही आया, सोते मैं भीग जाती है पलके मेरी, पलकों को अभी तक दर्द छुपाना नही आया.

गहरी थी रात, लेकिन हम खोए नही, दर्द बहूत था दिल में, लेकिन हम रोए नही, कोई नही हमारा जो पूछे हमसे, जग रहे हो किसी के लिए, या किसी के लिए सोए ही नही.

वफ़ा के वादे वो सारे भुला गयी चुप चाप, वो मेरे दिल की दीवारें हिला गयी चुप चाप .

शायद इस दिल को आराम मिले अब मैं सिर्फ़ यही सोच के आया हूँ मेरे टूटे दिल के टुकड़ों को, मैं हाथों में उठा के लाया हूँ .

मुझे दफनाने से पहले मेरा दिल निकाल कर उसे दे देना मैं नही चाहता के वो खेलना छोङ दे, हजारों चहरो मे तेरी मोहब्बत मिली मुझको पर दिल की जिद थी की तू नही तो तुझ जैसा भी कोई नही.

कहते है प्यार की सचाई दर्द है, मायूसी है इस दर्द मे जिया, तो सच मे जिया, ज़िंदगी मे कुछ किया.

दिल का दर्द आँखों से बायन होता है, ज़रूरी नही के हर ज़ख़्म का निशान होता है.

खाए हैं बहुत धोखे हुमने, बहाएँ हैं बहुत आँसू हुमने, दर्द का रिश्ता कुछ ऐसा है हमसें , की दर्द को सीने से लगाया हुमने .